Saturday, July 28, 2012

ये रास्ते

रास्ते 
                                         
                                          
कहाँ से चले थे कहाँ आ पहुंचे
जाना था किधर यहाँ कैसे आ पहुंचे
यह रास्ते कब बदल गए कहीं हमने तो नहीं राह बदल ली
बस यही सोच के गम हूँ में भटक गई की राह उलझ गई 

9 comments:

  1. वाह बहुत सुंदर ....

    ReplyDelete
  2. बस चलते जाना है हमें रमा

    ReplyDelete
  3. जीवन के रास्तें है बड़े पेचीदा......
    मगर हां चलते जाएँ तो मंजिल मिल ही जाती है...
    सुन्दर भाव आशा जी.

    अनु

    ReplyDelete
  4. यह रास्ते कब बदल गए कहीं हमने तो नहीं राह बदल ली...

    अगर ये परिवर्तन न हो तो ज़िन्दगी नीरस लगे ....!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यबाद हरकीरत जी
      सही कहा आपने

      Delete
  5. Replies
    1. धन्यवाद अनामिका जी

      Delete