Saturday, September 14, 2013

इश्क की भूलभुल्लैया

                         इश्क है क्या कोई समझाओ जरा
                        चाहत में डूब जाना  याद  में खो जाना
                        बिना कहे उसका सब समझ जाना
                         दिल जो कभी धडकता भी न था
                         दिल का  सोच कर ही कुलांचे भरना    
                           हवाओं में   बस महक जाना     
                       ना कहते बनना ना चुप रहते बनना 
                               सपनों में खो जाना  
                        उसके न होने पे भी हर पल
                                साथ महसूस करना 
                         इश्क का बिन पूछे दिल में उतर जाना  
                       हर  परिधि लाँघ   अपना घर बना लेना
                               जीने की वजह मिल जाना
                            देने पे आना तो जान भी धर देना
                                         

12 comments: