Sunday, September 29, 2013

अब तो संभल जाओ

            



                        
यह तो बता देते कया चाहते हो तुम
                         
क्यूँ मुझे चाक चाक करते हो                           
                         मैं तो इन ज़र्रों को कफ़न में लपेटे हूँ

                         कभी याद  नहीं आता तुझे मेरा समर्पण
                        मैंने तो हर  साँस भी तुझे समर्पित की है
                         कुछ तो मोल पाया होया मेरे समर्पण का
                         अब नहीं संभले तो कब सम्भलोगे तुम
                        अजीब सिला दिया तूने मेरे संस्कारों का
                         ऐसा ज़हर न पीते बनता है न उगलते
                       मैं नीलकंठ  नहीं हूँ जो विष संभाले रखूं
                        कब तक सपने दिखाते रहोगे तुम
                        सपनों की दुनियां छोड़ हकीकत के धरातल पे आओ
                       ज़िन्दगी सपनों के सहारे नहीं चलती
                           जानते तुन भी हो जानते हम भी हैं
                        अब यह किरचें नहीं चुभती आदत हो गई है
                   
                       
  खुदा का वास्ता अब तो संभल जाओ
                     

10 comments:

  1. मार्मिक रचना.. दिल छू लिया आशा

    ReplyDelete
  2. Replies
    1. धन्यबाद राजेन्द्र क़ुमार जी

      Delete
  3. आपकी लिखी रचना की ये चन्द पंक्तियाँ.........
    कभी याद नहीं आता तुझे मेरा समर्पण
    मैंने तो हर साँस भी तुझे समर्पित की है
    कुछ तो मोल पाया होया मेरे समर्पण का
    अब नहीं संभले तो कब सम्भलोगे तुम

    बुधवार 02/10/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    को आलोकित करेगी.... आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है ..........धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया यशोदा जी

      Delete
  4. अब भी संभल जाओ .....

    मार्मिक रचना .. बधाई आप को आशा जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यबाद मीना जी

      Delete
  5. मार्मिक रचना .... शुभकामनाये ..:)
    अजीब सिला दिया तूने मेरे संस्कारों का
    ऐसा ज़हर न पीते बनता है न उगलते
    मैं नीलकंठ नहीं हूँ जो विष संभाले रखूं

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यबाद सुनीता अग्रवाल जी

      Delete