Friday, November 29, 2013

माँ का दर्द

                        यूँ ही आज जिगर में हूक सी उठी
                क्या यही हमारे जिगर के टुकड़े हैं
              जिनेह हमारी हर बात यूँ ही लगती है
              पढ़ा था सुना था भुगत अब रहे हैं
               आज समझ आई पुरानी कहावत
                 "इंसान अपनी औलाद से हारता है "
                 कई बार सीना छलनी हो चुका है
                  कहाँ गए वो नन्हे हाथ
                  जो ऊँगली थामे चलते थे
                   कहाँ गया वो  प्यार जो पल्लू
                               थामे चलता था
                  वक़्त बदल गया या हम ठहर गए हैं
                  बड़े अजीब भंवर में फास गए हैं
                   वो बचपन अच्छा था
                    जब दुयाएँ मांगती  माँ
                  हर दुःख खुद के लिए मांग लेती थी
                यह कैसे रिश्ते हैं जो समझ से बहर हैं

4 comments:

  1. बहुत सुंदर उत्कृष्ट रचना ....!
    ==================
    नई पोस्ट-: चुनाव आया...

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद धीरेन्द्र जी

      Delete
  2. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया मीना जी

      Delete