Tuesday, November 26, 2013

सपनें


         सपनों की जिम्मेदारी बहुत बड़ी होती है
        सपनें जब टूटते हैं तो आदमी बिखर जाता है
            किसी को  बिखरने से बचाना होगा
             उसके सपनोँ को टूटने से बचाना होगा
            किसी को सैलाब में खोने से बचाना होगा
             सपनोँ की अपनी दुनियां होती है
               मत  तोड़ना किसी के सपने
               क्या पता उसके सपनों में
               भगवान् भी आप के बाद आता हो
                
               

8 comments:

  1. धन्यवाद सुनीता जी

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर कहा आशा

    ReplyDelete
  3. धन्यवाद विजया जी

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर और सटीक...

    ReplyDelete
  5. शुक्रिया कैलाश जी

    ReplyDelete