Sunday, March 2, 2014

एक तू एक मैं

                वो तेरा मुझे आगोश में समेट लेना
                 जब  भी मैंने खुद को बिखरा महसूस किया
                वो तेरा टूट के चाहना
,               हर  बात पे  मुस्कुरा देना
                  मैंने तुझे शिद्दत से चाहा है
                    कभी समझा नहीं पाई
                   मेरे रूठने पे वो तेरा मानाने का अनूठ अंदाज़
                    हर साँस तेरे नाम कर दी थी हमने
                     मेरी मौन आँखों में मेरी नाराज़गी पढ़
                       वो तेरा हस हस के जतलाना
                        मर मिटी मैं
                       तेरे इस अंदाज़ पे
                       तेरा हर बार निश्छलता से
                   अपनी हर गलती को मान लेना ,
                    आगे से तौबा करलेना
                       फिर वही दोहराना ,
                    जानते हुए भी
                             मै टूट जाती हूँ
                   , चाहे नहीं जतलाती
                        एहसास है तुझे भी
               , वो  बच्चों  सी मासूमियत
                            चेहरे पे ला मुझे भरमा लेना तेरा
                           अनूठा अंदाज़ तेरा
                             तुझी तक सिमट के रह गई दुनियां हमारी
                            एक तू एक मैं बस , यहीं तक सिमट गई
                               हमारी दुनियां
                                 बस एक तू एक मैं
                           अब न तू न मैं
                               हम पे आ सिमटी सारी दुनियां

                          

                           
                                 
                                    

6 comments:

  1. नारी का निश्छल मन ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. Nishchalta hi naari ki Sunderta hai
      Thanks Rama

      Delete
  2. तुझी तक सिमट के रह गई दुनियां हमारी
    एक तू एक मैं बस , यहीं तक सिमट गई
    हमारी दुनियां
    बस एक तू एक मैं
    अब न तू न मैं
    हम पे आ सिमटी सारी दुनियां ......bahut sundar

    ReplyDelete